बातचीत करने का ये तरीका ,लोगों को दीवाना बना देगा

 

लोगो से कैसे बात करे ?

इस दुनिया में सफल होने के लिए ,जो एक स्किल आपके अंदर होनी ही चाहिए वो है Communication Skill यानी लोगो से वार्तालाप करने की कला ,बिना इसके आप जिंदगी में सफल नही हो सकते है |चाहे आप एक business करते हो ,या कोई Job करना चाहते हो ,आपको लोगो से बातचीत करने की कला आनी ही चाहिए क्योंकि बिना इसके न तो आप अपनी company ग्रो कर सकते है न ही अपनी job में और उच्च पद  पर जा सकते है |तो आज के इस लेख में हम बात करने वाले है कि आप लोगो से कैसे बात कर सकते है ताकि वो आपकी बातो को पसंद करे और आपको ध्यान से सुने |

क्या आपको पता है ,लोगो को कौन सा व्यक्ति पसंद होता है ?

पहला ,जो लोगो की तारीफ करे |अपनी तारीफ सुनना किसे बुरा लगता है , हर कोई चाहता है कि कोई उनके कपडे , काम इत्यादी की बड़ाई करे |यदि आप किसी व्यक्ति में कुछ अच्छाई पाते है ,तो उसकी तारीफ जरुर करे और हा इस बात का ध्यान रखे की तारीफ सच्ची होनी चाहिए नाकि केवल दिखावे के लिए कुछ भी बोले चले जा रहे है |

इससे सामने वाले व्यक्ति को लगने लगता है कि ये व्यक्ति चापलूस है ,जो केवल झूठी तारीफ करता है |इसलिए इस बात का ध्यान जरुर रखे कि आप जब किसी व्यक्ति की तारीफ करे तो उसकी सच्ची तारीफ करे | हो सके ,तो उस व्यक्ति की तारीफ उससे न कर किसी दुसरे इंसान से करे ,जो की उसका दोस्त या घर का कोई सदस्य हो  ,इससे उस व्यक्ति को लगेगा की ये मेरी सच में तारीफ कर रहा है |

क्योंकि लोग मुख पर खूब तारीफ करते है लेकिन आड़ में उतनी बुराई भी करते है |इसलिए आज से बातचीत करते समय इस बात का ध्यान रखे |

दूसरा ,जो आपको सुनना पसंद करता हो |जीवन का एक कड़वा सच बताऊ ," लोगो को सिर्फ अपने जीवन के बारे में बात करना अच्छा लगता है ,नाकि दुसरे के जीवन के बारे में सुनना  "|ऐसा मैं नही कह रहा हूँ बल्कि आप ने इसको अपनी जीवन में देखा भी होगा ,जब भी आप लोगो से अपने बारे में बात करते है की मेरे साथ कल क्या हुआ ?मेरी क्या पसंदे है ?तो लोग या आपके दोस्त इसको सुनने में उतनी दिलचस्पी नही दिखाते है,केवल सुनने का नाटक करते है  |क्योंकि उन्हें सुनने से ज्यादा अपने बारे में बताना अच्छा लगता है |

इसलिए , यदि आप उनके लाइफ के बारे में पूछते है ,तो वो अपने बारे में बताना ज्यादा पसंद करेंगे क्योंकि जिस तरह हम अपनी बातें दुसरो से शेयर करना चाहते है उसी तरह सामने वाले को भी अपनी बाते किसी को बताना रहता है  |इसलिए जब भी कोई व्यक्ति आपसे अपने काम के या पुरानी यात्रा के बारे में बात कर रहा हो तो आपको उसकी बातो में दिलचस्पी दिखानी है |इसके लिए ,आप उस व्यक्ति से उसकी यात्रा के बारे में पूछे | अच्छा ! तो वहां कौन -कौन सी चीजे आपको बढ़िया लगी ?क्या आप वहां के कुछ अच्छी जगहों के बारे में बता सकते है ? इस तरह वो व्यक्ति आपसे बात करने में दिलचस्पी दिखायेगा क्योंकि पहली बार कोई उसको ध्यान से सुनने वाला मिला है | 

नोट : यदि आपको लोगो के दिलों में राज करना है ,तो एक अच्छा श्रोता बनाना होगा |

तीसरा , बात करते समय चेहरे पर थोडा सा स्माइल रहनी चाहिए |क्या आप उस व्यक्ति से बात करना पसंद करेंगे ,जो की हमेशा उदास रहता हो ?बिलकुल नही क्योंकि एक व्यक्ति के अन्दर जैसे विचार चल रहे होते है ,वैसे उसकी body energy रिलीज़ करती है ,तो यदि कोई उदास होगा ,तो उसके आस -पास हमे नकारात्मकता महशुश होगी |

जबकि मुस्कान प्रकृति का दिया हुआ एक  ऐसा वरदान है ,जो हमारे आस -पास सक्रतामकता को दर्शाता है यदि कोई आपसे बात करते समय अपने चेहरे पर स्माइल रखता है ,तो आपको उससे बात करने में अच्छा लगेगा इसलिए  किसी से बात करते समय अपने चेहरे पर थोड़ी सी स्माइल रखनी चाहिए ,इससे लोगो के बीच आपकी सकारात्मक ऊर्जा दिखाई देती है |और लोग आपसे बात करने में दिलचस्पी दिखायेगे |

लोग छोटे बच्चो को क्यों पसंद करते है ?क्योंकि उनके चेहरे पर हमेशा स्माइल रहती है जिससे लोगो को उनके साथ रहना,बातें करना अच्छा लगता है |

बात करते समय कुछ बातों का ध्यान रखे 

सकारात्मक विचार से लोगो से मिले 

ऐसा कई बार होता है ,हमे बात करने के सभी तौर तरीके पता होते है लेकिन फिर भी हम बात करने से पहले  समय नर्वस  हो जाते है |जैसी ही हम किसी अनजान व्यक्ति से बात करने जाते है ,तो हमारे मन में पहले ही तरह -तरह के नकारात्मक विचार आने लगते है 
  • क्या होगा ,यदि मैंने बोलते समय कुछ गलत कह दिया ?
  • यदि वह व्यक्ति मेरे बात करने के तरीके से खुश नही हुआ,तो  ?
  • यदि वो मेरी अन्दर की कमियों को जान  लेता है ,तो ?
इनि सब विचारो के कारण ,हम अपने मन के अन्दर पहले ही एक negative इमेजिनेशन कर लेते है ,जिसकी वजह से हमे लोगो के सामने बात रखने में मुश्किल होती है |इसीलिए आप जब किसी से बात करने के लिए जाये ,तो एक पॉजिटिव attitude के साथ जाये जिसमे आप उस इंसान से बिना किसी नर्वस से बात कर सकते है |

धीरे -धीरे बोले 

कई बार लोग जल्दी में या नर्वस होकर अपनी बात को जल्द बोलना चाहते है ,जिसकी वजह से वो बात करते समय फस जाते है ,कुछ गलत बोल जाते है, जिससे लोग उनके ऊपर हंसने लगते है |इसीलिए ऐसी गलती से बचने के लिए ,आप जब भी लोगो के बीच थोडा नर्वस हो रहे है ,तो अपनी बात करने की स्पीड को कम कर दे और सोच समझ कर शब्दों का प्रयोग करे |

इस कला को आप राजनेताओ से सिख सकते है ,यदि आप किसी राजनेता की स्पीच सुनते है चाहे वो प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी हो या मुख्यमत्री अरविन्द केजरीवाल आपको दोनों की बातों में एक समानता देखेगी कि वो सभी बातो को सोच समझकर धीरे धीरे बोलते है |क्योंकि उनके हर एक शब्द का बहुत महत्व होता है |

गहरी सांस ले 

जब भी किसी से बात करते समय आपको लगे कि ,आप नर्वस हो रहे है ,तो 1 से 2 बार गहरी सांस ले |क्योंकि हम जब नर्वस होते है ,तो हमारे ब्रेन को प्रयाप्त मात्र में ऑक्सीजन नही मिल पाता है जिसकी वजह से ये अच्छी तरह काम नही कर पाता और हम बातो में अक्सर फसने लगते है |इसलिए आप जब भी नर्वस हो ,तो थोड़े समय रूककर गहरी साँस ले ,इस तरह आपके अन्दर फिर से बात करने की ऊर्जा आ जाएगी |

क्या बात करना है ,इसको मन में रखे रहे ?

ऐसा कई बार होता है की हम अपने दोस्तों से खूब खुलकर बातें करते है लेकिन वही यदि किसी अनजान इंसान से बात करना होता है तो हमारे मन कोई टॉपिक ही नही आता है ,की हम किसपे बात करे |

किसी से बात करते समय ,उस व्यक्ति की बातो को ध्यान से सुने और फिर थोड़ा पीछे जाकर ,किसी टॉपिक के बारे में सवाल करे जिसका उसने जिक्र किया हो |जैसे :यदि कोई व्यक्ति आपसे बात करते समय कहता है कि मैं दो दिन पहले आगरा ताजमहल देखने गया था ,तो आप उस टॉपिक के बारे में बातें कर सकते है | यदि आपने कभी ताजमहल नही देखा ,तो आप कह सकते है ,"मैंने अभी एक बार भी ताजमहल नही देखा है  ,क्या आप मुझे वहां के कुछ अद्धभुत दृश्य के बारे में बता सकते है ? "इससे आप उस व्यक्ति के साथ खूब बात भी कर सकते है और आपको उस जगह की जानकारी भी हो जाएगी |


यदि आपको बात करते समय लगने लगे की अब आपके पास बात करने के लिए ,कोई टॉपिक नही है |तो आप न्यूज़ के बारे में बात कर सकते है कि,
  • आज प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के बीच बातचीत से क्या फैसला हुआ ?
  • यदि आप खेल के दीवाने है ,तो क्रिकेट या खिलाडी के बारे में दुसरे व्यक्ति से पूछ सकते है |
  • उनकी favorite movie और favorite एक्टर  के बारे में आप पूछ सकते है 
  • आपने आज सोशल मीडिया पर क्या अच्छा पढ़ा या देखा उसके बारे में जिक्र कर सकते है |
इसलिए ,यदि आप किसी अनजान जगह जा रहे है ,तो कोशिश करिए के एक बार न्यूज़ को जरुर पढ़ ले की आज दुनिया में क्या हो रहा है ? इससे आपको दुनिया की खबर के साथ -साथ लोगों से बात करने के लिए ढेर सारे टॉपिक भी मिल जायेगे |

अभ्यास करे 

किसी से बात करने की कला भी एक स्किल की तरह है ,जिसे समय के साथ अभ्यास करके सिखा जा सकता है |इसलिए आप इसको लगातार follow करते रहना है और शुरुवात में यदि आप असफल भी हो जाते है ,तो निराश नही होना है  ,आपको उस गलती को पता करना है और सुधार करना है |

नोट : आपके अन्दर किसी चीज को सिखने का जितना दृढ संकल्प  होगा ,आप उसको उतनी आसानी से सिख सकते है |

छोटी शुरुवात करे 

अक्सर लोग किसी नयी तकनीक को  सिखने में एक गलती करते है कि वो इसको जल्द से जल्द सीखना चाहते है जिसके लिए वो सभी रूल को एक साथ follow करना शुरू कर देते है | जिसकी वजह से कुछ दिन बाद fail होकर थक कर छोड़ देते है और उन्हें लगने लगता है मैं इसको नही सिख सकता हूँ |

आप इस तरह के जाल में न फंसे इसीलिए आप पहले छोटा शुरू करे ,एक तकनीक ले जैसे ,"लोगो को सुनने की आदत" और इसको १ महीने तक follow करे ,फिर ये आपकी डेली की दिनचर्या में जुड़ जाएगी और अब आपको बात करते समय इसको याद रखने की जरुरत नही होगी |

फिर उसके बाद दूसरी तकनीक दे और उसको भी १ महीने तक follow करे |इस तरह आप समय के साथ अपनी बातचीत में सुधार ला सकते है |

याद रखे : कोई भी कला समय के साथ ,अभ्यास के साथ आती है |

आपको "लोगो से कैसे बात करे "? लेख कैसा लगा ,कमेंट करके जरुर बताये और इसी तरह के लेख को पढने के लिए ,इस ब्लॉग को follow करना न भूले |



एक उपन्यास डिजाइन करने के लिए Snowflake विधि

 यह लेख एक English लेख का हिंदी अनुवाद है जिसे एक प्रसिद्ध उपन्यास लेखक ने लिखा है |

लेखक के बारे में ,

रैंडी इंगरमैनसन एक सैद्धांतिक भौतिक विज्ञानी और छह उपन्यासों के पुरस्कार विजेता लेखक हैं। उन्होंने वर्षों से कई लेखन सम्मेलनों में पढ़ाया है और मुफ्त मासिक उन्नत फिक्शन राइटिंग ई-ज़ीन प्रकाशित करते हैं।

ओरिजिनल आर्टिकल की लिंक यहाँ है : https://www.advancedfictionwriting.com/articles/snowflake-method/

हिंदी अनुवाद : 

उपन्यास लिखना आसान है। एक अच्छा उपन्यास लिखना कठिन है। बस यही जीवन है। यदि ये आसान होता, तो हम सभी सबसे अधिक बिकने वाला, पुरस्कार विजेता उपन्यास लिख रहे होते।

सच कहूँ तो,  एक हजार अलग-अलग लोग हैं जो आपको बता सकते हैं कि "उपन्यास कैसे लिखना है ?" और इसको लिखने के एक हजार अलग-अलग तरीके हैं। आपके लिए सबसे अच्छा वह है जो आपके लिए काम करता हो |

इस लेख में, मैं लोगो के साथ साझा करना चाहता हूं कि मेरे लिए क्या काम करता है। मैंने छह उपन्यास प्रकाशित किए हैं और अपने लेखन के लिए लगभग एक दर्जन पुरस्कार जीते हैं। मैं हर समय सम्मेलनों में  लिखने में कथा लेखन का शिल्प सिखाता हूं। मेरे सबसे लोकप्रिय व्याख्यानों में से एक यह है: जिसे मैं "Snowflake विधि " कहता हूं, इसका उपयोग करके एक उपन्यास कैसे लिखा जाए।

यह पृष्ठ मेरी वेब साइट पर सबसे लोकप्रिय है, और प्रति दिन एक हजार से अधिक पृष्ठ दृश्य प्राप्त करता है। कई  वर्षों में, इस पृष्ठ को छह मिलियन से अधिक बार देखा जा चुका है। तो आप अनुमान लगा सकते हैं कि बहुत से लोग इसे उपयोगी पाते हैं। लेकिन यदि आपको उपयोगी नही लगता ,तो मुझे कोई दिक्कत नही है । इसे देखें, तय करें कि आपके लिए क्या काम कर सकता है, और बाकी को अनदेखा करें! यदि यह आपको समझ नही आता  हैं, तो मेरा अपमान नहीं होगा। अलग-अलग लेखक अलग-अलग होते हैं। अगर मेरे तरीके आपको अच्छे लगे , तो मुझे खुशी होगी। मैं अपनी तरफ से चीजो को व्वास्थित करने का पूरा प्रयास करूँगा , लेकिन आप अंतिम न्यायाधीश हैं की आपके लिए सबसे अच्छा कौन काम करता है। मज़े करो और। . . अपना उपन्यास लिखें!

डिजाइन का महत्व

अच्छा फिक्शन यूं ही नहीं होता, इसे डिजाइन किया जाता है। आप अपना उपन्यास लिखने से पहले या बाद में डिजाइन का काम कर सकते हैं। मैंने इसे दोनों तरीकों से किया है और मेरा मनना है कि ,इसे पहले करना तेज है और बेहतर परिणाम की ओर ले जाता है। डिजाइन कठिन काम है, इसलिए एक मार्गदर्शक सिद्धांत को जल्दी खोजना महत्वपूर्ण है। यह लेख आपको अपने डिजाइन का मार्गदर्शन करने के लिए एक शक्तिशाली रूपक देगा।

हमारा मौलिक प्रश्न यह है: आप एक उपन्यास कैसे डिजाइन करते हैं?

कई सालों तक, मैं एक सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट था जहाँ बड़ी सॉफ्टवेयर परियोजनाओं को डिजाइन करता था। मैं उपन्यास उसी तरह लिखता हूं जैसे मैं "Snowflake विधि " का उपयोग करके सॉफ्टवेयर लिखता हूं। ठीक है, "Snowflake विधि क्या है? इसको समझने से पहले , इस शानदार वेब साइट पर एक नज़र डालें|

आपके दुसरे ब्राउज़र पेज पर , आपको एक पैटर्न का एनीमेशन दिखाई देगा जिसे स्नोफ्लेक फ्रैक्टल के रूप में जाना जाता है। किसी को न बताएं, लेकिन यह एक महत्वपूर्ण गणितीय वस्तु है जिसका व्यापक अध्ययन किया गया है। 



हमारे उद्देश्यों के लिए, यह snowflake एक अच्छा स्केच है। यदि आप उसी वेब पेज को थोड़ा नीचे स्क्रॉल करते हैं, तो आपको एक बड़ा त्रिकोण वाला एक बॉक्स और नीचे तीर दिखाई देगा। यदि आप बार-बार अपने बटन को उसपे दबाते हैं, तो आपको "Snowflake" बनाने के लिए उपयोग किए गए चरण दिखाई देंगे। यह पहली बार में एक "Snowflake"की तरह नहीं दिखता है, लेकिन कुछ कदमों के बाद, यह उस तरह दिखने लगता है  , जब तक की यह पूरा नहीं हो जाता|

पहले कुछ चरण इस तरह दिखते है : 



मेरा दावा है कि आप इस तरह एक उपन्यास डिजाइन करते हैं - आप छोटी शुरुआत करते हैं, फिर चीजो को जोड़ते है  जब तक कि यह कहानी की तरह न दिखे। इसका एक हिस्सा रचनात्मक कार्य है, और मैं आपको यह नहीं सिखा सकता कि यह कैसे करना है। यहाँ नहीं, वैसे भी। लेकिन काम का एक हिस्सा सिर्फ आपकी रचनात्मकता का प्रबंधन करना है - इसे अच्छी तरह से संरचित करके एक उपन्यास में व्यवस्थित करना। यही मैं आपको यहाँ पढ़ाना चाहता हूँ।

यदि आप अधिकांश लोगों की तरह है , तो आप लिखना शुरू करने से पहले अपने उपन्यास के बारे में सोचने में लंबा समय लगाते होंगे। आप कुछ शोध करते हैं। आप सपना देखते हैं कि कहानी कैसे काम करेगी। आप मंथन करते है । आपको अलग-अलग किरदारों की आवाजें सुनाई देने लगती हैं। आप सोचते हैं कि पुस्तक किस बारे में है - डीप थीम। यह हर किताब का एक अनिवार्य हिस्सा है जिसे मैं "composting" कहता हूं। यह एक अनौपचारिक प्रक्रिया है और हर लेखक इसे अलग तरह से करता है। मैं यह मानने जा रहा हूं कि आप अपनी कहानी के विचारों को कंपोस्ट करना जानते होंगे  और आपके दिमाग में पहले से ही एक उपन्यास अच्छी तरह से तैयार हो गया है और आप उस उपन्यास को लिखना शुरू करने के लिए तैयार हैं।

डिजाइन के दस कदम

लेकिन इससे पहले कि आप लिखना शुरू करें, आपको संगठित होने की जरूरत है। आपको उन सभी अद्भुत विचारों को एक ऐसे रूप में कागज पर उतारने की जरूरत है जिसका आप उपयोग कर सकते हैं। क्यों? क्योंकि आपकी याददाश्त कमजोर है, और आपकी रचनात्मकता ने शायद आपकी कहानी में बहुत सारे छेद छोड़े हैं - आपको उपन्यास लिखना शुरू करने से पहले उन छेदों को भरना होगा। आपको एक डिज़ाइन दस्तावेज़ की आवश्यकता है। और आपको इसे एक ऐसी प्रक्रिया का उपयोग करके तैयार करने की आवश्यकता है जो वास्तव में कहानी लिखने की आपकी इच्छा को नहीं मारती है। यहाँ एक डिज़ाइन दस्तावेज़ लिखने के लिए मेरी दस-चरणीय प्रक्रिया है। मैं अपने उपन्यास लिखने के लिए इस प्रक्रिया का उपयोग करता हूं, और मुझे आशा है कि यह आपकी मदद करेगी।

चरण १) एक घंटे का समय लें और अपने उपन्यास का एक-वाक्य सारांश लिखें। कुछ इस तरह: "एक दुष्ट भौतिक विज्ञानी प्रेरित पौलुस को मारने के लिए समय में वापस यात्रा करता है।" (यह मेरे पहले उपन्यास, ट्रांजिशन का सारांश है।) यह वाक्य दस सेकंड के विक्रय उपकरण के रूप में हमेशा के लिए आपकी सेवा करेगा। यह बड़ी तस्वीर है, Snowflake के चित्र में उस बड़े प्रारंभिक त्रिभुज का अनुरूप है |

जब आप बाद में अपना पुस्तक प्रस्ताव लिखते हैं, तो यह वाक्य प्रस्ताव में सबसे पहले प्रकट होना चाहिए। यह वह हुक है जो आपकी पुस्तक को आपके संपादक को, आपकी समिति को, बिक्री बल को, किताबों की दुकान के मालिकों को और अंततः पाठकों को बेचने में मदद करता है । तो आप इसको  जितना अच्छा बना सकते है ,बनाने की कोशिश करे |

एक अच्छा वाक्य बनाने के कुछ तरीके 

  • छोटा लिखना  बेहतर है। 15 शब्दों से कम में  प्रयास करें।
  • किसी करैक्टर का नाम बार -बार न ले ! "जेन डो" की तुलना में "एक विकलांग ट्रैपेज़ कलाकार" कहना बेहतर है।
  • बड़ी तस्वीर और व्यक्तिगत तस्वीर को एक साथ बांधें। इस कहानी में किस किरदार के पास खोने के लिए सबसे ज्यादा है? अब मुझे बताओ कि क्या वह जीतना चाहता है।
  • यह कैसे करना है, यह जानने के लिए न्यूयॉर्क टाइम्स बेस्टसेलर सूची पर एक-पंक्ति के ब्लर्ब्स पढ़ें। एक-वाक्य विवरण लिखना एक कला रूप है।
चरण २) एक और घंटा लें और उस वाक्य को कहानी सेटअप करके में , प्रमुख आपदाओं और उपन्यास के अंत का वर्णन करते हुए एक पूर्ण पैराग्राफ में विस्तारित करें। यह Snowflake के दूसरे चरण का अनुरूप है। मैं एक कहानी को "तीन आपदाएं और एक अंत" के रूप में तैयार करना पसंद करता हूं। प्रत्येक आपदा पुस्तक के एक चौथाई भाग को विकसित होने में लेती है और अंत में अंतिम तिमाही लगती है। मुझे नहीं पता कि यह आदर्श संरचना है या नहीं, यह सिर्फ मेरा व्यक्तिगत स्वाद है।

यदि आप तीन-अधिनियम संरचना में विश्वास करते हैं, तो पहली आपदा, अधिनियम 1 के अंत से मेल खाती है। दूसरी आपदा, अधिनियम 2 का मध्य बिंदु है। तीसरी आपदा ,अधिनियम 2 का अंत है, और अधिनियम 3 को इस्तेमाल करके आप चीजो को और आगे ले जाते है । पहली आपदा बाहरी परिस्थितियों के बारे में हो सकती है , लेकिन मुझे लगता है कि दूसरी और तीसरी आपदा नायक के "चीजों को ठीक करने" के प्रयासों के बारे में होना चाहिए | चीजें बद से बदतर होती जाती हैं।

आप इस पैराग्राफ को अपने प्रस्ताव में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आदर्श रूप से, आपके पैराग्राफ में लगभग पाँच वाक्य होंगे। एक वाक्य पृष्ठभूमि और कहानी सेटअप देने के लिए , फिर अपनी तीन आपदाओं के लिए एक-एक वाक्य। फिर अंत बताने के लिए एक और वाक्य। इस पैराग्राफ को अपनी पुस्तक के बैक-कवर कॉपी के साथ भ्रमित न करें। यह पैराग्राफ पूरी कहानी को सारांशित करता है। आपकी बैक-कवर कॉपी को कहानी के केवल पहले क्वार्टर के बारे में संक्षेप में बताना चाहिए।

चरण ३) उपरोक्त कार्य आपके  उपन्यास का एक उच्च-स्तरीय दृष्टिकोण देता है। अब आपको अपने प्रत्येक पात्र की कहानी के लिए कुछ इसी तरह की आवश्यकता है। पात्र किसी भी उपन्यास का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होते हैं, और आप उन्हें सामने से डिजाइन करने में जितना समय लगाते हैं, उसका दस गुना फायदा होता है ,जब आप लिखना शुरू करते हैं। अपने प्रत्येक प्रमुख पात्र के लिए, एक घंटे का समय लें और एक पृष्ठ का सारांश पत्र लिखें जो बताता है:

चरित्र का नाम
चरित्र की कहानी का एक-वाक्य सारांश
चरित्र की प्रेरणा (वह क्या चाहता/चाहती है?)
चरित्र का लक्ष्य (वह ठोस रूप से क्या चाहता है?)
चरित्र का संघर्ष (क्या उसे इस लक्ष्य तक पहुंचने से रोकता है?)
चरित्र की पहचान (वह क्या सीखेगा, वह कैसे बदलेगा?
चरित्र की कहानी का एक पैराग्राफ सारांश

एक महत्वपूर्ण बिंदु: आपको एक समय पर लग सकता है , कि आपको वापस जाने और अपने एक-वाक्य सारांश और/या अपने एक-पैराग्राफ सारांश को संशोधित करने की आवश्यकता है। आगे बढ़ें! यह अच्छा है-इसका मतलब है कि आपके पात्र आपको चीजें सिखा रहे हैं|डिज़ाइन प्रक्रिया के किसी भी चरण में वापस जाना और पहले के चरणों को संशोधित करना हमेशा ठीक होता है। वास्तव में, यह ठीक नहीं है - यह अपरिहार्य है। और यह अच्छा है। अब आप जो भी संशोधन करते हैं, वे संशोधन हैं जिससे आपको बाद में 400 पृष्ठ की पांडुलिपि बनाने की आवश्यकता नहीं होगी।

एक और महत्वपूर्ण बिंदु: यह उत्तम होना जरूरी नहीं है। डिजाइन प्रक्रिया में प्रत्येक चरण का उद्देश्य आपको अगले चरण पर आगे बढ़ाना है। अपनी आगे की गति बनाए रखना है ! आप हमेशा बाद में वापस आ सकते हैं और कहानी को बेहतर ढंग से समझने पर इसमें बदलाव कर सकते है। आप भी ऐसा करेंगे, जब तक कि आप मुझसे ज्यादा चालाक न हों जाये ।

चरण 4) इस स्तर तक, आपको अपने उपन्यास की बड़े पैमाने की संरचना का एक अच्छा विचार होना चाहिए, और आपने इसके लिए  केवल एक या दो दिन बिताए हैं। ठीक है, हो सकता है , इसके लिए आपने एक सप्ताह जितना खर्च किया होगा, लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। यदि कहानी टूटी हुई है, तो आप इसे अभी जाने , बजाय इसके कि पहले मसौदे में 500 घंटे का निवेश करने के बाद। तो अब बस कहानी को आगे बढ़ाते रहो। कई घंटे लें और अपने सारांश अनुच्छेद के प्रत्येक वाक्य को एक पूर्ण अनुच्छेद में विस्तारित करें। अंतिम पैराग्राफ को छोड़कर सभी को आपदा में समाप्त होना चाहिए। अंतिम पैराग्राफ  यह बताना चाहिए कि पुस्तक कैसे समाप्त होती है।

यह बहुत मज़ेदार है, और अभ्यास के अंत में, आपके पास अपने उपन्यास का एक बहुत अच्छा एक-पृष्ठ का रचना  है। अगर आप यह सब एक सिंगल-स्पेस पेज पर नहीं प्राप्त कर सकते हैं तो कोई बात नही ,यह ठीक है ,। मायने रखता है कि क्या आप  उन विचारों को बढ़ा रहे हैं जो आपकी कहानी में जाएंगे। आप संघर्ष करके विस्तार कर रहे हैं। अब आपके पास एक प्रस्ताव के लिए उपयुक्त सारांश होना चाहिए, हालांकि प्रस्तावों के लिए एक बेहतर विकल्प है। . .

चरण 5) एक या दो दिन का समय लें और प्रत्येक प्रमुख चरित्र का एक पृष्ठ का विवरण और अन्य महत्वपूर्ण पात्रों का आधा पृष्ठ का विवरण लिखें। ये "चरित्र सारांश" प्रत्येक चरित्र के दृष्टिकोण से कहानी को बताना चाहिए। हमेशा की तरह, बेझिझक पहले के चरणों में वापस जाएं और अपने पात्रों के बारे में अच्छी चीजें सीखते हुए संशोधन करें। मैं आमतौर पर इस कदम का सबसे अधिक आनंद लेता हूं और हाल ही में, मैं प्लॉट-आधारित सिनॉप्सिस के बजाय परिणामी "चरित्र सारांश" को अपने प्रस्तावों में डाल रहा हूं। संपादकों को चरित्र सारांश पसंद हैं, क्योंकि संपादकों को चरित्र-आधारित कल्पना पसंद है।

चरण 6) अब तक,  आपके पास प्रत्येक चरित्र के लिए एक ठोस कहानी और एक कई कहानी-सूत्र हैं।अब एक  सप्ताह का समय लें और उपन्यास के एक पृष्ठ के कथानक सारांश को चार पृष्ठ के सारांश में विस्तारित करें। मूल रूप से, आप फिर से प्रत्येक पैराग्राफ को चरण (4) से एक पूर्ण पृष्ठ में विस्तारित करेंगे। यह बहुत मज़ेदार है, क्योंकि आप कहानी के उच्च-स्तरीय तर्क का पता लगा रहे हैं और रणनीतिक निर्णय ले रहे हैं। यहां, आप निश्चित रूप से पहले के चरणों में वापस साइकिल चलाना और चीजों को ठीक करना चाहेंगे क्योंकि आप कहानी में अंतर्दृष्टि प्राप्त करते हैं और नए विचार आपके सामने आते हैं।

चरण 7) एक और सप्ताह लें और प्रत्येक चरित्र के बारे में जानने के लिए अपने चरित्र विवरण को पूर्ण चरित्र चार्ट में विस्तारित करें। मानक सामान जैसे जन्मतिथि, विवरण, इतिहास, प्रेरणा, लक्ष्य, आदि। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उपन्यास के अंत तक यह चरित्र कैसे बदलेगा? यह चरण (3) में आपके काम का विस्तार है, और यह आपको आपके पात्रों के बारे में बहुत कुछ सिखाएगा। आप शायद वापस जाएंगे और कदम (1-6) को संशोधित करेंगे क्योंकि आपके पात्र आपके लिए "वास्तविक" हो जाते हैं और कहानी पर पेटू मांग करना शुरू कर देते हैं। यह अच्छा है - महान कथा चरित्र-चालित है। इसे करने के लिए जितना समय चाहिए उतना समय लें, क्योंकि आप केवल डाउनस्ट्रीम में समय बचा रहे हैं। जब आपने इस प्रक्रिया को पूरा कर लिया है, (और यहां पहुंचने के लिए  एक पूरा महीना का ठोस प्रयास लग सकता है), तो आपके पास प्रस्ताव लिखने के लिए आवश्यक अधिकांश चीजें हैं। यदि आप एक प्रकाशित उपन्यासकार हैं, तो आप अभी एक प्रस्ताव लिख सकते हैं और इसे लिखने से पहले अपना उपन्यास बेच सकते हैं। यदि आप अभी तक प्रकाशित नहीं किये  हैं, तो इसे बेचने से पहले आपको अपना पूरा उपन्यास लिखना होगा। नहीं, यह उचित नहीं है, लेकिन जीवन निष्पक्ष नहीं है और कथा लेखन की दुनिया विशेष रूप से अनुचित है।

चरण 8) पुस्तक के बिकने की प्रतीक्षा में, आप यहाँ एक अंतराल ले सकते हैं या नहीं भी ले सकते हैं। किसी बिंदु पर, आपको वास्तव में उपन्यास लिखना होगा। ऐसा करने से पहले, कुछ चीजें हैं जो आप उस दर्दनाक पहले मसौदे को आसान बनाने के लिए कर सकते हैं। पहली बात यह है कि चार-पृष्ठ का सारांश लें और उन सभी दृश्यों की एक सूची बनाएं जिनकी आपको कहानी को एक उपन्यास में बदलने की आवश्यकता होगी। और उस सूची को बनाने का सबसे आसान तरीका है। . . एक स्प्रेडशीट के साथ।

किसी कारण से, यह बहुत सारे लेखकों के लिए डरावना है। ओह दहशत। हालत से समझौता करो। आपने वर्ड-प्रोसेसर का उपयोग करना सीखा। स्प्रेडशीट आसान हैं। आपको दृश्यों की एक सूची बनाने की आवश्यकता है, और सूचियां बनाने के लिए ही  स्प्रेडशीट का आविष्कार किया गया था। अगर आपको कुछ ट्यूशन की जरूरत है, तो एक किताब खरीद लें। मार्किट में हजारो किताब है , और उनमें से एक आपके लिए कोई काम कर सकता है । आपको अपनी जरूरत के हिसाब से थोड़ा सीखने में एक दिन से भी कम समय लगना चाहिए। यह आपके द्वारा बिताया गया अब तक का सबसे मूल्यवान दिन होगा। इसे करें।

अपने चार-पृष्ठ के प्लॉट की रूपरेखा से उभरने वाले दृश्यों का विवरण देते हुए एक स्प्रेडशीट बनाएं। प्रत्येक दृश्य के लिए केवल एक पंक्ति बनाएं। एक कॉलम में, POV कैरेक्टर को सूचीबद्ध करें। दूसरे (चौड़े) कॉलम में बताएं कि क्या होता है। यदि आप फैंसी प्राप्त करना चाहते हैं, तो और कॉलम जोड़ें जो आपको बताएं कि आप दृश्य के लिए कितने पेज लिखने की उम्मीद करते हैं। एक स्प्रेडशीट आदर्श है, क्योंकि आप एक नज़र में पूरी कहानी देख सकते हैं, और चीजों को फिर से व्यवस्थित करने के लिए दृश्यों को इधर-उधर करना आसान है।

मेरी स्प्रैडशीट्स आमतौर पर उपन्यास के प्रत्येक दृश्य के लिए एक पंक्ति 100 से अधिक लंबी होती हैं। जैसे ही मैं कहानी विकसित करता हूं, मैं अपनी कहानी स्प्रेडशीट के नए संस्करण बनाता हूं। कहानी का विश्लेषण करने के लिए यह अविश्वसनीय रूप से मूल्यवान है। एक अच्छी स्प्रेडशीट बनाने में एक सप्ताह का समय लग सकता है। जब आप कर लें, तो आप अध्याय संख्याओं के लिए एक नया कॉलम जोड़ सकते हैं और प्रत्येक दृश्य के लिए एक अध्याय असाइन कर सकते हैं।  एक ठोस कहानी और कई कहानी-सूत्र हैं, प्रत्येक चरित्र के लिए एक। अब एक सप्ताह का समय लें और उपन्यास के एक पृष्ठ के कथानक सारांश को चार पृष्ठ के सारांश में विस्तारित करें। मूल रूप से, आप फिर से प्रत्येक पैराग्राफ को चरण (4) से एक पूर्ण पृष्ठ में विस्तारित करेंगे। यह बहुत मज़ेदार है, क्योंकि आप कहानी के उच्च-स्तरीय तर्क का पता लगा रहे हैं और रणनीतिक निर्णय ले रहे हैं। यहां, आप निश्चित रूप से पहले के चरणों में वापस साइकिल चलाना और चीजों को ठीक करना चाहेंगे क्योंकि आप कहानी में अंतर्दृष्टि प्राप्त करते हैं और नए विचार आपके सामने आते हैं।

चरण 9) (वैकल्पिक। मैं यह चरण अब और नहीं करता।) अपने वर्ड प्रोसेसर पर वापस जाएँ और कहानी का वर्णनात्मक विवरण लिखना शुरू करें। स्प्रैडशीट की प्रत्येक पंक्ति लें और इसे दृश्य के बहु-पैराग्राफ विवरण तक विस्तृत करें। आपके विचार से संवाद की कोई भी अच्छी पंक्तियाँ डालें और उस दृश्य के आवश्यक संघर्ष को रेखांकित करें। यदि कोई विरोध नहीं है, तो आप इसे यहां जानेंगे और आपको या तो संघर्ष जोड़ना चाहिए या दृश्य को साफ़ करना चाहिए।

मैं प्रति अध्याय एक या दो पृष्ठ लिखता था, और मैंने प्रत्येक अध्याय को एक नए पृष्ठ पर शुरू किया। फिर मैंने इसे पूरी तरह से प्रिंट किया और इसे एक ढीली पत्ती वाली नोटबुक में रख दिया, ताकि मैं बाद में आसानी से अध्यायों को स्वैप कर सकूं या दुसरे को गड़बड़ किए बिना अध्यायों को संशोधित कर सकूं। इस प्रक्रिया में आमतौर पर मुझे एक सप्ताह का समय लगता था और अंतिम परिणाम 50-पृष्ठ का एक बड़ा मुद्रित दस्तावेज़ था जिसे मैं लाल स्याही में संशोधित करूंगा क्योंकि मैंने पहला मसौदा लिखा था। जब मैं सुबह उठा तो मेरे सभी अच्छे विचार इस दस्तावेज़ के हाशिये पर हाथ से लिखे हुए थे। यह, वैसे, लिखने का एक दर्द रहित तरीका है जो भयानक विस्तृत सारांश है कि सभी लेखकों को नफरत है। लेकिन इसे विकसित करने में वास्तव में मज़ा आता है, अगर आपने पहले चरण (1) से (8) किया है। जब मैंने यह कदम उठाया, तो मैंने यह सारांश कभी किसी को नहीं दिखाया, कम से कम एक संपादक को - यह मेरे लिए अकेला था। मुझे इसे प्रोटोटाइप के पहले मसौदे के रूप में सोचना अच्छा लगा। एक हफ्ते में पहला ड्राफ्ट लिखने की कल्पना करें! हां, आप इसे कर सकते हैं और यह समय के लायक है। लेकिन मैं ईमानदार रहूंगा, मुझे नहीं लगता कि मुझे अब इस कदम की जरूरत है, इसलिए मैं इसे अभी नहीं करता।

चरण १०) इस बिंदु पर, बस बैठ जाओ और उपन्यास के वास्तविक पहले मसौदे को तेज़ करना शुरू करें। आपको आश्चर्य होगा कि इस स्तर पर कहानी आपकी उंगलियों से कितनी तेजी से उड़ती है। मैंने देखा है कि लेखकों ने अपनी कथा लेखन गति को रातोंरात तीन गुना कर दिया है, जबकि वे आमतौर पर तीसरे मसौदे पर बेहतर गुणवत्ता वाले पहले ड्राफ्ट तैयार करते हैं।

आप सोच सकते हैं कि इस समय तक सारी रचनात्मकता कहानी से बाहर हो चुकी है। लेकिन ऐसा नही है , तब तक नहीं जब तक कि आप अपने Snowflake को लिखते समय अपने विश्लेषण को पूरा नहीं कर लेते। यह मजेदार हिस्सा माना जाता है, क्योंकि यहां काम करने के लिए कई छोटी-छोटी तर्क समस्याएं हैं। घड़ियाल से घिरे उस पेड़ से हीरो कैसे निकलता है और जलती हुई नाव में सवार हीरोइन को कैसे बचाता है? यह पता लगाने का समय है! लेकिन यह मजेदार है क्योंकि आप पहले से ही जानते हैं कि उपन्यास की बड़े पैमाने की संरचना काम करती है। इसलिए आपको केवल सीमित समस्याओं को हल करना है, और इसलिए आप अपेक्षाकृत तेजी से लिख सकते हैं।

यह चरण अविश्वसनीय रूप से मजेदार और रोमांचक है। मैंने कई कथा लेखकों को यह शिकायत करते सुना है कि पहला मसौदा कितना कठिन है। निश्चित रूप से, ऐसा इसलिए है क्योंकि उनके पास कोई सुराग नहीं है कि आगे क्या हो रहा है। सुखद दुख! ऐसा लिखने के लिए जीवन बहुत छोटा है! जब आप 150 में एक ठोस लिख सकते हैं, तो आपको  उपन्यास का पहला मसौदा लिखने में 500 घंटे खर्च करने की कोई जरुरत  नहीं है। डिजाइन दस्तावेजों को करने में लगने वाले 100 घंटों की गिनती करते हुए, आप समय से आगे निकल जाते हैं।

पहले मसौदे के बीच में, मैं आमतौर पर एक सांस लेता हूं और अपने डिजाइन दस्तावेजों के सभी टूटे हुए हिस्सों को ठीक करता हूं। हां, डिजाइन दस्तावेज सही नहीं हैं। वह ठीक है। डिज़ाइन दस्तावेज़ कंक्रीट में तय नहीं होते हैं, वे दस्तावेज़ों का एक जीवित सेट होते हैं जो आपके उपन्यास को विकसित करने के साथ बढ़ते हैं। यदि आप अपना काम ठीक से कर रहे हैं, तो पहले मसौदे के अंत में आप इस बात पर हंसेंगे कि आपके मूल डिज़ाइन दस्तावेज़ कितने शौकिया तौर पर कबाड़ थे। और आप रोमांचित होंगे कि आपकी कहानी कितनी गहरी हो गई है।


स्नोफ्लेक का उपयोग करने के तरीके


क्या आप अभी भी अपने उपन्यास के भयानक पहले मसौदे(ड्राफ्ट ) के साथ संघर्ष कर रहे हैं जो बहुत ही  निराशाजनक लगता है? एक घंटे का समय लें और अपनी कहानी को एक वाक्य में सारांशित करें। क्या यह चीजों को स्पष्ट करता है? आपने अभी-अभी Snowflake का चरण (1) पूरा किया है, और इसमें केवल एक घंटा लगा है।  Snowflake के अगले कुछ चरणों का प्रयास क्यों न करें और देखें कि क्या आपकी कहानी अचानक जीवंत नहीं होती है? एक भयानक पहले मसौदे को छोड़कर, जिसे आप पहले से ही नफरत करते हैं, आपको खोने के लिए क्या मिला है?

क्या आप एक पंत लेखक हैं, जिन्होंने आखिरकार आपका उपन्यास समाप्त कर दिया, लेकिन अब आप पांडुलिपि के एक विशाल ढेर को घूर रहे हैं, जिसे फिर से लिखने की सख्त जरूरत है? हिम्मत न हारना! आपका उपन्यास हो गया, है ना? आपने कुछ ऐसा किया है जिसके बारे में कई लेखक केवल सपने देखते हैं। अब कल्पना करें कि एक बड़े-शॉट संपादक लिफ्ट में आपसे टकराते हैं और पूछते हैं कि आपके उपन्यास के बारे में क्या है। पंद्रह शब्दों या उससे कम में आप क्या कहेंगे? पर्याप्त समय लो! यह सोच का खेल है। आप क्या कहेंगे? यदि आप अगले घंटे में उत्तर के साथ आ सकते हैं। . . आपने अभी-अभी स्नोफ्लेक का चरण 1 पूरा किया है! क्या आपको लगता है कि कुछ अन्य कदम आपको उस पांडुलिपि में कुछ आदेश देने में मदद कर सकते हैं? इसे आजमा कर देखें। आपके पास खोने के लिए क्या है?

क्या आपको अपने संपादक से एक भयानक लंबा पत्र मिला है जिसमें उन सभी चीजों का विवरण दिया गया है जो आपके उपन्यास में गलत हैं? क्या आप सोच रहे हैं कि आप अपनी असंभव समय सीमा से पहले सभी परिवर्तन कैसे कर सकते हैं? स्नोफ्लेक करने में कभी देर नहीं होती। क्या होगा यदि आप एक सप्ताह का समय लेते हैं और अभी सभी चरणों का अभ्यास करते हैं? यह चीजों को आश्चर्यजनक रूप से स्पष्ट करेगा, और फिर आपके पास उन सभी संशोधनों को क्रियान्वित करने की योजना होगी। मुझे यकीन है कि आप इसे रिकॉर्ड समय में पूरा कर लेंगे। और मुझे यकीन है कि किताब आपकी कल्पना से बेहतर निकलेगी।

यदि स्नोफ्लेक विधि आपके लिए काम करती हो ,तो मैं इसके बारे में जानना चाहूँगा |



How to gain weight in hindi {वजन कैसे बढ़ाये }

 आज दुनिया में जितना ज्यादा ओबेसिटी या मोटापा की प्रॉब्लम है ,उतना ही underweight या कम वजन की भी समस्या है |यदि हम इंडिया के बारे में बात करे ,तो हमारा देश पुरे दुनिया में underweight की list में सबसे ऊपर है जहाँ 102 Million पुरूष और 101 Million महिला underweight है ,जो की पूरी दुनिया के underweight लोगो का 40 प्रतिशत है |

इस आकड़े से समझ आता है कि हमारे देश में कम वजन वाले लोगो की कितनी ज्यादा समस्या है |इसके मुताबिक हमारा देश कम वजन वाले लोगो की सूचि में दुनिया में नंबर १ है ,इसके पीछे कई कारण है 

१.  हमारी देश की पापुलेशन इतनी ज्यादा है ,जिससे सभी लोगो को प्रयाप्त भोजन नही मिल पता |

२. लोग अपने शरीर का सही तरीके से ध्यान नही रख पाते यानि उन्हें कितना अपने दिनचर्या के हिशाब से कितना  खाना चाहिए ,उसका ज्ञान नही है |

३. यहाँ के लोग भोजन या उससे मिलने वाली ऊर्जा ,कैलोरी पर ज्यादा ध्यान नही देते |

इसलिए ,आज के इस लेख में ,आपको वजन बढाने के तरीके ,तरह -तरह के भोजन से मिलने वाली ऊर्जा या कैलोरी के बारे में विस्तार से पढने को मिलेगा |जिसकी मदद से ,आप अपने हिशाब से अपने वजन को बढ़ा सकते है ,लोग अक्सर पूछते है कि 10 दिन में वजन कैसे बढ़ाये ,१ महीने में १० किलो कैसे बढ़ाये लेकिन यदि आपको भोजन से मिलने वाली कैलोरी का ज्ञान रहेगा ,तो आप अपने मुताबिक उस हिशाब से भोजन का सेवन कर आसानी से अपना वजन बढ़ा सकते है |

Table of content  

  • कैसे पता करे, कि आपका वजन कम है ?
  • कम वजन होने के पीछे का क्या कारण होता है ?
  • कम वजन होने से कौन -कौन सी हेल्थ प्रॉब्लम हो सकती है ?
  • आप कैसे अपने वजन को बढ़ा सकते है {How to gain weight} 

कैसे पता करे की, हमारा वजन कम है ?

किसी व्यक्ति का वजन कम या ज्यादा पता करने के लिए ,हम Body Mass Index जिसे (BMI) भी  कहते है का use करते है  ,जिसकी मदद से आप बेहद आसानी से पता कर सकते है की क्या आपके लम्बाई और उम्र के हिशाब से आपक वजन सही है या उसपे काम करने की जरुरत है |

इसको विस्तार से समझे ...

BMI यानि Body Mass Index को एक इंसान की हाइट ,वेट ,उम्र और सेक्स के हिशाब से पता किया जाता है |लोग अक्सर गलती क्या करते है ,वो  BMI निकलते समय केवल हाइट और वेट पर ही ध्यान देते है लेकिन हमारे शरीर की फिटनेस में उम्र और सेक्स का भी बहुत योगदान होता है |

 यदि एक पुरुष और एक महिला की हाइट और वजन बराबर है ,लेकिन फिर भी दोनों की फिटनेस में बहुत अंतर होता है |क्योंकि एक पुरूष को फिट होने के लिए ,muscles चाहिए जबकि एक महिला की फिटनेस muscles का होना जरुरी नही है |

आप निचे देख सकते है 




इसलिए अपने BMI को निकालते समय सेक्स का जरुर ध्यान रखे |नीचे दी गयी इमेज में आप BMI और शरीर की फिटनेस को देख सकते है |

                                                          
इस रिकॉर्ड की मदद से ,आप आसानी से पता कर सकते है की आप किस सूचि में है ,क्या आपको वजन पर काम करने की जरुरत है या आप पहले से फिट है |लेकिन सवाल उठता है कि BMI {Body Mass Index } निकले का सबसे बेस्ट तरीका कौन सा है ,क्या हमको खुद निकाला चाहिए ?तो यदि आप खुद अपना BMI {Body Mass Index } पता करना चाहते है ,तो इस फार्मूला का use कर सकते है 
BMI निकालने का फार्मूला


लेकिन  इस तरीके से निकालने से  हमारी उम्र और सेक्स दोनों के हिशाब से ये रिकॉर्ड नही निकालता .इसलिए BMI पता करने का सबसे बेस्ट तरीका है ,कि आप BMI calculator का Use करके निकाले |ये calculator ,आपके वेट ,हाइट ,उम्र और सेक्स के हिशाब से डाटा बताते है |

इस लिंक पर क्लिक करे और अपना BMI पता करे 

यदि आपका वजन कम है ,तो आगे पढ़ते रहिये क्योंकि वजन कम होने भी बहुत ज्यादा हेल्थ प्रॉब्लम होती है | 

इसको भी पढ़े 

कम वजन होने से क्या हेल्थ प्रॉब्लम हो सकती है 

एक स्टडी के अनुशार  ,किसी underweight इंसान में जल्दी मौत का खतरा पुरूष में 140 % तक होता है ,जबकि महिला में 100% तक होता है लेकिन वही एक मोटे इंसान में जल्दी मौत का खतरा सिर्फ 50 %  ही होता है |तो यदि आप Underweight है ,तो आपकी मौत का खतरा बढ़ जाता ,इसके पीछे कई कारण हो सकते है 

1.Immune system कमजोर होना 


एक कमजोर व्यक्ति का इम्यून सिस्टम भी कमजोर होता है ,जिसकी वजह से उसमे बीमारी होने का खतरा  बढ़ जाता है |इम्यून सिस्टम कमजोर होने से ,हमारे ऊपर किसी भी वायरस का अटैक होने पर हम तुरंत बीमार हो जाते है क्योंकि हमारे शरीर के पास वायरस से लड़ने की क्षमता नही होती |आज के इस कोरोना काल में ,जिस व्यक्ति का इम्यून सिस्टम मजबूत नही है ,वो इस वायरस से आसानी से ग्रसित हो जा रहा है |

कमजोर होने से और क्या -क्या हेल्थ समन्धी प्रॉब्लम हो सकती है ..

२.बाल और दन्त की प्रॉब्लम 

यदि कोई व्यक्ति कमजोर है ,तो इसका मतलब उसके body को पर्याप्त मात्रा में विटामिन ,कैल्शियम इत्यादी नही मिल पा रहे है ,जिसके चलते  धीरे -धीरे उसके बाल , दांत आदि में भी समस्या होना शुरू हो जाती है |

कमजोरी महशुश करना 

यदि किसी के शरीर को उतना प्रोटीन ,विटामिन नही मिल रहा है जितना की उसको जरुरत है |तो जाहिर से बात है ,वो इंसान किसी भी काम को करने के थोड़े समय बाद ही थक जायेगा और हो सकता है उसको चक्कर जैसी दिक्कत भी होने लगे |

कम वजन होने के पीछे क्या कारण होता है 

यदि कोई व्यक्ति कमजोर या Underweight है ,तो इसके पीछे बहुत से कारण हो सकते है 

  • समय पर पर्याप्त मात्रा में भोजन नही करना |
  • हमेशा काम के तनाव में रहना जिससे शरीर पर ध्यान नही देना |
  • अपनी क्षमता से ज्यादा काम करना |
  • आपके Digestive system में कोई समस्या होना ,जिसके चलते ,आपके खूब खाने के बाद भी आपके body पर कोई असर नही होता है |
  • कुछ लोगो का वजन genetically कम होता है यानी यदि आपके माता -पिता का वजन कम कम है ,तो हो सकता है आपका भी वजन कम हो |

कैसे अपने वजन को बढ़ा सकते है {How to gain weight} 

आपका वजन किसी भी कारण से कम हो  ,यदि आप पर्याप्त मात्रा में उतना विटामिन ,प्रोटीन का सेवन  करते है ,जितना की आपके शरीर को जरुरत है ,तो आपका वजन जरुर बढेगा |अब आपके मन में सवाल  होगा ,"कि हम कैसे पता कर सकते है ,की हमारे body को रोजाना कितना प्रोटीन ,विटामिन चाहिए "?

यदि आप एक पुरुष है जिसकी उम्र (19-24 साल के बीच में है ) ,और आप बहुत ज्यादा फिजिकल एक्टिविटी नही करते है ,तो आपकी body को फिट रखने के लिए रोजाना 2800 कैलोरी की जरुरत होती है ,वही यदि आपकी उम्र थोडा ज्यादा है यानी (26-50) के बीच ,तो आप थोडा कम कैलोरी भी लेते है ,तो इससे  कोई प्रॉब्लम नही है क्यूंकि इस समय आपके body को विकास के लिए ज्यादा energy नही चाहिए होती है |लेकिन यदि आप ज्यादा फिजिकल एक्टिविटी करते है ,तब आपको पर्याप्त मात्रा में कैलोरी लेना चाहिए |

वही यदि आप एक लड़की है जिसकी उम्र (19-24 साल के बीच है ) और आप ज्यादा फिजिकल एक्टिविटी भी नही करती है ,तो आपकी body को फिट रखने आपको रोजाना  2200 कैलोरी तक Consume करने की जरुरत होती है ,और यदि आपकी उम्र थोडा ज्यादा है यानी आप (26-50) साल के बीच है ,तो ये कैलोरी २००० तक भी आपकी body के लिए प्रयाप्त है |

तो यदि आप Underweight है और ऊपर दिए गये किसी भी सूचि में आते है ,तो आपको दी गयी कैलोरी से 300-500 ज्यादा कैलोरी लेना है ,इससे आपका वजन धीरे -धीरे बढ़ना शुरू हो जायेगा |

मैं आपको कुछ फ़ूड और उससे मिलने वाली कैलोरी के बारे में बता देता हूँ ,जिससे आप अपने हिशाब से कैलकुलेट कर सकते है की आपको कौन कौन से फ़ूड को लेना चाहिए  |और यदि आप किसी और फ़ूड की कैलोरी निकालना चाहते है जो मैंने नीचे नही बताया है ,तो आप इस वेबसाइट पर आसानी से चेक कर सकते है :Check amount of calorie .इसकी मदद से आप जो भी रोजाना फ़ूड लेते है ,उससे आपको कितनी कैलोरी मिलती है ,आप यहाँ आसानी से चेक कर सकते है |

यदि आप पर्याप्त मात्रा में फ़ूड नही ले रहे है ,तो आप इन चीजो को अपने भोजन में सामिल कर सकते है 

1. Milk 

दूध एक ऐसा पदार्थ है जिसके अन्दर आपको फट ,कार्बोहाइड्रेट्स ,प्रोटीन इत्यादी सभी चीजे मिल जाती है |एक स्टडी के अनुशार , वर्कआउट को करने के बाद ,दूध का सेवन करने से ,आपको सोया प्रोटीन से ज्यादा फायदा मिलता है |सोया प्रोटीन वो product होते है ,जीने बॉडी बिल्डर वर्कआउट करने के बाद लेते है जिससे उनकी body  बनती है लेकिन इसके कई सिदीफ्फेक्ट भी होते है ,तो इससे अच्छा है आप एक से दो ग्लास दूध का सेवन करे |

नोट : आपको 100 ग्राम दूध से 42 कैलोरी उर्जा मिलती है ,तो यदि आप दिन का 500 ग्राम दूध का सेवन  करते है ,तो आपको 200 कैलोरी से ज्यादा ऊर्जा सिर्फ दूध से ही मिल जा रही है |

2. Egg 

यदि आपको शरीर के लिए विटामिन और प्रोटीन की जरुरत है ,तो अंडे से बढ़िया कोई बिकल्प नही है |जहाँ  आपको 100 ग्राम दूध पीने से आपको केवल 42 कैलोरी ऊर्जा मिलती थी ,वही यदि आप दो अंडे का सेवन  करते है ,तो आपकी body को 186 कैलोरी तक ऊर्जा मिलती है ,तो यदि आप अपना वजन बढ़ाना चाहते है ,तो आपको अपने डाइट में रोजाना 2-4 अंडे जरुर शामिल करना चाहिए |
 
३. Rice 

वजन बढाने के लिए ,चावल का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि लगभग एक कप चावल से 200 कैलोरी मिलती है |और हमारे एशियाई देशो जैसे चाइना ,इंडिया इत्यादी में लोग चावल खाने के मामले में बहुत आगे है ,यहाँ लगभग एक दिन में 4-6 बार चावल खाए जाते है |चुकी आप इंडिया से है ,तो आप इसको समझ सकते है  कि हमारे घर में चावल हर रोज बनाता है |तो हम इसी चावल को थोडा ज्यादा मात्रा 
सेवन कर ,अपना वजन बढ़ा सकते है लेकिन ध्यान रखे आपको साथ -साथ प्रोटीन ,विटामिन का भी सेवन करना है |

४. प्रोटीन 

यदि आप अपना वजन चाहते है ,तो आप प्रोटीन को Ignore नही कर सकते |एक सामान्य इंसान यदि वो पुरूष है तो रोजाना उसको 56 ग्राम प्रोटीन की जरुरत होती है जबकि एक महिला को 46 ग्राम की जरुरत होती है |

५.  सूखे फलो का सवाल करे 

वैसे तो हम सब जानते है की वजन बढाने के लिए ,स्वस्थ रहने के लिए फलो का सेवन करना चाहिए लेकिन क्या आपको पता यदि आप सूखे फलो का सेवन करते है ,तो ये आपके वजन को और तेजी से बढाने में मदद करता है |

लोगो को लगता है ,कि यदि हम किसी फाल को सुखा देते है ,तो उसके Nutrients खत्म हो जाते है |लेकिन ऐसा नही है ,एक रिसर्च में पता चाल है ,की सूखे फलों में हमे विटामिन के साथ साथ सुगर की मात्रा  भी ज्यादा होती है ,जो हमारा वजन बढाने में मदद करता है |

५. प्रोटीन पाउडर का सेवन 

हलाकि ,आज के समय में आपको मार्किट में ऐसे कई वजन बढाने के लिए पाउडर मिल जाते है |जिसको यदि आप लेते  है ,तो आपका वजन त्तेजी से बढाने लगता है |इसके पीछे का कारण है ,इसमें मिलने वाले प्रोटीन और विटामिन ,हम अलग -अलग प्रकार के भोजन से इसको Consume करते है लेकिन प्रोटीन पाउडर में ,आपको ये सब बस एक ही खुराक में मिल जाता है ,जिससे आपक वजन बढ़ने लगता है |

मैं अपने experience के बारे बताता हूँ ,आज से कुछ महीनो पहले मैंने अपनी Muscles बनाने के लिए ,इंदूर मासा और उसके साथ दूध और केला का सेवन करना शुरू किया और साथ -साथ मैं सुबह -शाम  वर्कआउट भी करता था |जिससे मेरी body पहले से ज्यादा मजबूत और अच्छी हो गयी |

लेकिन यदि आप इस तरह के पाउडर ज्यादा मात्रा में लेते है ,तो ये आपके sexual लाइफ के लिए खतरनाक हो सकता है क्योंकि इसमें सोया प्रोटीन मिलता है ,जिससे पुरूष हॉर्मोन Testosterone की मात्रा कम होने लगती है ,जिससे बाद में चलकर आपके विवाहिक जीवन पर असर हो सकता है |

इसलिए ,मैं कहूँगा यदि आप कोई प्रोटीन पाउडर का सेवन करना चाहते है |तो उसको ज्यादा दिन तक न consume करे ,मैंने केवल २ धब्बा इंदूर मॉस का सेवन किया था और इससे ज्यादा हमे करना भी नही चाहिए |

निर्कर्ष : 

यदि आप ऊपर दी गयी चीजो का नियमित रूप से सेवन करते है ,तो आप अपना वजन आसानी से बड़ा सकते है |यदि आपको जल्दी वजन बढ़ाना ,तो आपको ज्यादा कैलोरी लेना  होगा |

आपको ये पोस्ट कैसी लगी ,कमेंट करके जरुर बताये और इसी तरह के पोस्ट को पढने के लिए ,आप इस ब्लॉग को सब्सक्राइब जरुर करे |